DBT : डीबीटी क्या है? पेमेंट स्टेटस चेक

DBT का फुल फॉर्म Direct Benefit Transfer है। आपके मन में डीबीटी को लेकर बहुत सारे सवाल चल रहे होंगे | जैसे कि डीबीटी से क्या फायदा है? DBT पोर्टल क्यों बनाया गया ? DBT पोर्टल में कौन – कौनसी योजनायें शामिल हैं ? डीबीटी के लिए आवेदन कैसे करें? ओर भी बहुत सारे सवाल जिनका जवाब इस आर्टिकल में देने का प्रयास करेंगे| तो आप आर्टिकल को अंत तक जरुर पढ़ें | आएये जानते हैं डीबीटी क्या है ? के बारे में | सूचना / धनराशि के सरल और तेज प्रवाह के लिए कल्याणकारी योजनाओं में मौजूदा प्रक्रिया को फिर से इंजीनियरिंग करके सरकारी वितरण प्रणाली में सुधार के उद्देश्य से और लाभार्थियों के सटीक लक्ष्यीकरण को सुनिश्चित करने के लिए, डी-डुप्लीकेशन और धोखाधड़ी में कमी प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण (डीबीटी) 1 जनवरी, 2013 को शुरू हुआ।सरकार द्वारा इस पोर्टल की शुरुआत धोखाधड़ी को दूर करने के लिए की गयी थी|

Direct Benefit Transfer
Contents hide
1 Direct Benefit Transfer

Direct Benefit Transfer

DBT कार्यक्रम के कार्यान्वयन के लिए नोडल बिंदु के रूप में कार्य करने के लिए योजना आयोग में DBT मिशन बनाया गया था। मिशन जुलाई, 2013 में व्यय विभाग को हस्तांतरित कर दिया गया और 14.9.2015 तक कार्य करता रहा। अधिक प्रेरणा देने के लिए, डीबीटी मिशन और संबंधित मामलों को कैबिनेट सचिवालय में सचिव (समन्वय और पीजी) w.e.f के तहत रखा गया है। डीबीटी का पहला चरण 43 जिलों में शुरू किया गया था और बाद में छात्रवृत्ति, महिलाओं, बाल और श्रम कल्याण से संबंधित 27 योजनाओं में 78 और जिलों को जोड़ा गया। 12.12.2014 को देश भर में DBT का और विस्तार किया गया। 7 नई छात्रवृत्ति योजनाएं और महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारंटी अधिनियम (MGNREGA) 300 आधार वाले जिलों में DBT के तहत उच्च आधार नामांकन के साथ लाया गया था।

Direct Benefit Transfer in Hindi

इलेक्ट्रॉनिक पेमेंट फ्रेमवर्क को ओ.एम. दिनांक 13.2.2015 और 19.2.2015। इस रूपरेखा का पालन सभी मंत्रालयों / विभागों और उनके संलग्न संस्थानों / सार्वजनिक उपक्रमों द्वारा किया जाना है और यह सभी केंद्रीय क्षेत्र (सीएस) / केंद्र प्रायोजित योजनाओं (सीएसएस) और उन सभी योजनाओं के लिए लागू होता है जहां नकद के घटक व्यक्तिगत लाभार्थियों को हस्तांतरित किए जाते हैं। डीबीटी योजनाओं में आधार अनिवार्य नहीं है। चूंकि आधार विशिष्ट पहचान प्रदान करता है और इच्छित लाभार्थियों को लक्षित करने में उपयोगी होता है, इसलिए आधार को प्राथमिकता दी जाती है और लाभार्थियों को आधार प्रदान करने के लिए प्रोत्साहित किया जाता है।

JAM यानी जन धन, आधार और मोबाइल DBT एनबलर हैं और आज की तारीख में 22 करोड़ से अधिक जन धन खाता, 100 करोड़ से अधिक आधार और लगभग 100 करोड़ मोबाइल कनेक्शन राज्यों और संघ राज्य क्षेत्रों सहित देश की सभी कल्याणकारी योजनाओं में DBT को लागू करने का एक अनूठा अवसर प्रदान करते हैं। डीबीटी सरकारी प्रणाली में दक्षता, प्रभावशीलता, पारदर्शिता और जवाबदेही लाएगा और शासन में नागरिक के आत्मविश्वास को बढ़ाएगा। आधुनिक प्रौद्योगिकी और आईटी उपकरणों के उपयोग से मैक्सिमम सरकार के सपने का एहसास होगा। डीबीटी सरकार की उच्च प्राथमिकता और फोकस क्षेत्र है।

डीबीटी क्या है Full Video

Benefits Of DBT / डीबीटी से लाभ 

  • DBT पोर्टल से बहुत सारे लाभ हैं जैसे-
  • किसी भी योजना से मिलने वाली राशि सीधी खाते में ट्रान्सफर होती है|
  • इससे धोखाधड़ी की कोइ गुन्जाईस नहीं होती है|
  • इस पोर्टल से बिचोलियों की भूमिका समाप्त की जा रही है|
  • यह पोर्टल सभी उपयोगकर्ताओं के लिए समानता प्रदान करता है|
  • यह सरकार के सभी योजनाओं में पारदर्शिता प्रदान करता है|
  • डीबीटी पोर्टल सूचना / धनराशि के सरल और तेज प्रवाह करता है|

DBT Schemes / डीबीटी की योजनायें

डीबीटी पोर्टल पर आधार से जुडी हुयी सेवाओं( आधार सक्षम सेवा ) में कुल 36 सेवाएं हैं तथा इन सेवाओं का 460.35 करोड़ लोगों ने फायदा लिया है | DBT पोर्टल पर वर्तमान में 52 मंत्रालयों द्वारा 380 योजनाओं को शुरू किया जा रहा है| योजनाओं में किसान , पेंसनर्स , विद्यार्थी , महिला और बच्चे , युवा , कौशल और रोजगार तथा अन्य सभी क्षेत्रों को शामिल किया गया है| योजनाओं के बारे में विस्तार से जानने के लिए Direct Benefit Transfer Scheme List पर क्लिक करें | यहाँ पर आप सभी राज्यों के लिए योजनाओं को देख सकते हैं और उनका लाभ उठा सकते हैं|

डीबीटी के लिए दस्तावेज

  • आवेदनकर्ता की जन्म दिनाकं जो दस्तावेज में हो|
  • जिस राज्य जी योजना का लाभ लेना चाहते हैं, उसका निवासी होना चाहिए|
  • मोबाइल नंबर 
  • बैंक खाता पासबुक 
  • ईमेल आईडी 
  • आधार नंबर 
  • योजना के लिए अन्य निर्धारित दस्तावेज जो आपको आवेदन करने के समय पता लग जायेंगे|

डीबीटी योजनाओं के लिए ऑनलाइन आवेदन कैसे करें? 

  • यदि आप डीबीटी से जुडी सभी सेवाओं का लाभ लेना चाहते हैं और ऑनलाइन आवेदन करना चाहते हैं तो आपको -सबसे पहले DBT की ऑफिसियल वेबसाइट पर जाना है|
  • इसके बाद आपकी स्क्रीन इस प्रकार से दिखेगी|
डीबीटी क्या है
  • इसके बाद आपको ऊपर की और दिखाई देने वाले  ऑनलाइन अप्लाई के आप्शन पर क्लिक करना है|
  • अब आपकी स्क्रीन पर ऐसा पेज दिखेगा , इसमें से आप जिस केटेगरी के लिए लाभ लेने हेतु इच्छुक हैं, उस पर क्लिक करें | 
  • इसके बाद आपके सामने चयनित केटेगरी से संबंधित बहुत सारी योजनायें आ जाएँगी|
  • इन योजनाओं में से आपको अपने हिसाब से योजना का चयन करना है और उसके आगे दिए गए क्लिक हेयर के ऑप्शन पर क्लिक करना है|
  • इसके बाद आपके सामने उस योजना से जुड़े सभी आवश्यक दस्तावेज और योग्यता की जानकारी आ जाएगी| जिनको पढ़कर यदि आप उस योजना के लिए योग्य हैं तो निचे दिए गए बॉक्स को टिक करके कंटिन्यु पर क्लिक करना है|
  • इसके बाद फॉर्म में सम्पूर्ण जानकारी भरनी है और आवश्यक दस्तावेज अपलोड करने के बाद फॉर्म को पूर्ण करना है|

DBT Payment Status Check कैसे करें?

आप निचे दिए गये स्टेप फॉलो करके पेमेंट स्टेटस चेक कर सकते है:

  • सबसे पहले आपको DBT पोर्टल की ऑफिसियल वेबसाइट पर आना होगा।
  • वेबसाइट पर आने के बाद आपको DBT Payments के सेक्शन पर आना होगा।
  • इस पेज पर आने के बाद आपको Citizen Corner के सेक्शन में Know status of DBT Payments (Only for schemes on PFMS) का आप्शन दिखाई देगा इस पर क्लिक करे।
DBT Payment Status
  • अगले पेज पर आने के बाद आपके सामने एक फॉर्म ओपन होगा। इसमें आपको बैंक का नाम, अकाउंट नंबर और केप्चा कोड दर्ज करके Send OTP on Registered Mobile No के आप्शन पर क्लिक करना है।
dbt government payment Status
  • आपके पंजीकृत मोबाइल नंबर पर एक OTP आएगा वो आपको दर्ज करना है और सबमिट करना है।
  • इतना करने के बाद आपके सामने आपका dbt government payment status आ जायेगा।

डीबीटी हेल्पलाइन नंबर

  • यदि आपको Direct Benefit Transfer से सम्बंधित किसी भी प्रकार की पूछताछ करनी है, किसी भी प्रकार की समस्या या सवाल है तो आप इसके लिए सीधा DBT के अधिकारीयों से संपर्क कर सकते हैं |
  • इसके लिए आपको सबसे पहले DBT की ऑफिसियल वेबसाइट पर आना होगा |
  • उसके बाद Contact Us पर क्लिक करना है|
  • इसके बाद आपको सभी अधिकारीयों के पद व नाम के साथ उनके फ़ोन नंबर तथा ईमेल आईडी मिल जाएगी| जिन पर आप संपर्क कर सकते हैं| जैसा की आप निचे देख सकते हैं|

DBT से जुड़े बैंक खाते से आधार लिंक है या नहीं कैसे पता करें?

  • DBT से आने वाला पैसा सीधा खाते में आता है| और डीबीटी से सिर्फ एक ही खाता जोड़ सकते हैं |
  • इसके लिए आपको अपना आधार कार्ड खाते से लिंक करवाना चाहिए|यदि आप पता लगाना चाहते हैं कि आपके खाते से आधार कार्ड लिंक है या नहीं , तो आपको –
  • सबसे पहले डीबीटी की ऑफिसियल वेबसाइट पर जाना है|
  • इसके बाद आपको ऊपर की और दिखाई देने वाले Citizen’s Bank Account-Aadhaar linking status आप्शन पर क्लिक करना है|
  • अब आपके सामने ऐसा पेज ओपन होगा|
  • आपको अपने आधार नंबर डालकर निचे दिए गए कैप्चर कोड दर्ज करने हैं तथा इसके बाद सेंड ओटीपी पर क्लिक करना है|
  • अब आपके आधार कार्ड से जुड़े हुए मोबाइल नंबर पर OTP आएगी| जिसको दर्ज करना है| और सबमिट पर क्लिक करना है|
  • अब आपके सामने खाते की स्थिति आ जाएगी कि आधार कार्ड से जुड़ा हुआ है या नहीं|

राज्यों / केंद्र शासित प्रदेशों की DBT प्रदर्शन रैंकिंग जानने की प्रक्रिया

  • इसके लिए सबसे पहले आपको डीबीटी भारत की ऑफिसियल वेबसाइट पर आना होगा |
  • वेबसाइट के होम पेज पर आपको Rankings  के आप्शन में States / UTs Rankings का आप्शन दिखाई देगा इस पर क्लिक करना है | क्लिक करने के बाद न्यू पेज ओपन हो जायेगा |
DBT Performance Rankings of States
  • न्यू पेज पर आपके सामने स्टेट वाइज लिस्ट रैंकिंग लिस्ट ओपन हो जाएगी |

केंद्रीय मंत्रालयों / विभागों की DBT प्रदर्शन रैंकिंग जानने की प्रक्रिया

  • सबसे पहले आपको Direct Benefit Transfer भारत की ऑफिसियल वेबसाइट पर आना होगा |
  • वेबसाइट के होम पेज पर Rankings के आप्शन में आपको Ministrie Rankings का आप्शन दिखाई देगा इस पर क्लिक करना है | क्लिक करने के बाद अगला पेज ओपन हो जायेगा |
DBT Performance Rankings of Central Ministries
  • आपके सामने न्यू पेज ओपन हो जायेगा इस पेज पर आपको रैंकिंग लिस्ट दिखाई देगी |

DBT Login करने की प्रक्रिया

  • लॉग इन करने के लिए सबसे पहले आपको डीबीटी भारत की ऑफिसियल वेबसाइट पर आना होगा |
  • वेबसाइट के होम पेज पर आपको Login का आप्शन दिखाई देगा इस पर क्लिक करना है | क्लिक करने के बाद अगला पेज ओपन हो जायेगा |
DBT Login
  • आपके सामने लॉग इन फॉर्म ओपन हो जायेगा इसमें आपको यूजर नाम और पासवर्ड दर्ज करके केप्चा कोड दर्ज करने है उसके बाद लॉग इन कर लेना है |

फीडबैक देने की प्रक्रिया

  • फीडबैक देने के लिए आपको सबसे पहले DBT बिहार की ऑफिसियल वेबसाइट पर आना होगा |
  • वेबसाइट के होम पेज पर आपको Feedback का आप्शन दिखाई देगा इस पर क्लिक करना है | क्लिक करने के बाद अगला पेज ओपन हो जायेगा |
direct benefit transfer scheme
  • आपके सामने फीडबैक फॉर्म ओपन हो जायेगा इसमें आपको मागी गई जनकारी दर्ज करनी है उसके बाद फॉर्म को सबमिट कर देना है |

निष्कर्ष

इस आर्टिकल में हमने आपको डीबीटी क्या है ? इसके बारे में जानकारी प्रदान की है आशा करते है की आपको यह जानकारी पसंद आई होगी | अगर दोस्तों आपको Direct Benefit Transfer के बारे में कोई अन्य जानकारी लेनी है तो आप हमे कमेंट में लिख सकते है।

FAQs

DBT का मतलब क्या होता है?

DBT का फुल फॉर्म Direct Benefit Transfer होता है। सरकार के द्वारा जितनी भी योजना चलाई जा रही है उनका धन लाभार्थी के बैंक हाते में अब DBT के माध्यम से ट्रान्सफर किया जाता है।

डीबीटी इनेबल्ड क्या होता है?

अगर आपको डीबीटी को अपने बैंक अकाउंट के लिए इनेबल करना है तो आपको अपना अधर कार्ड NPCI सर्वर से लिंक करना होगा।

डीबीटी के क्या फायदे हैं?

डीबीटी का सबसे बड़ा फायदा यह है की अब लाभार्थी के खाते में सीधे पैसा ट्रान्सफर होगा, अब कोई बिचोलिया धोकाधड़ी नहीं कर सकता है।

डीबीटी में कितनी योजनाएं हैं?

वर्तमान समय में 53 मंत्रालयों की 312 योजनायें है।

Leave a Comment