एक्सीलेरेट विज्ञान योजना 2023: Accelerate Vigyan Yojana

एक्सीलेरेट विज्ञान योजना क्या है? | एक्सीलेरेट विज्ञान योजना इन हिंदी | What is Accelerate Science Scheme : किसी भी राष्ट्र की तरक्की उसके विज्ञान और तकनिकी के क्षेत्र में विकास पर निर्भर करता है| इसी सोच को आगे आधार मानकर तथा देश में वैज्ञानिक शोध को बढ़ावा देने के लिये विज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग (Department of Science and Technology- DST) के निकाय विज्ञान और इंजीनियरिंग अनुसंधान बोर्ड (Science and Engineering Research Board- SERB) द्वारा एक्सीलेरेट विज्ञान योजना योजना की शुरुआत की गई है|

यह योजना निश्चित तौर पर राष्ट्र के विकास में सहायक सिद्ध होगी तथा विद्यार्थियों के लिय तकनिकी के क्षेत्र में अपनी प्रतिभा तथा विकास में योगदान देगी| इस र्टिकल में हम आपको तकनीकी व विज्ञान विभाग की इस एक्सीलेरेट विज्ञान योजना का उद्देश्य, लाभ, विशेताएँ, मुख्य घटक तथा अन्य लाभकारी जानकारी शेयर करेंगे अतः इस आर्टिकल को अंत तक जरूर पढ़ें|

एक्सीलेरेट विज्ञान योजना 2023 क्या है?

भारत सरकार द्वारा विज्ञान और तकनिकी के क्षेत्र में विस्तार करने तथा इस योजना के माध्यम से विज्ञान के क्षेत्र में करियर बनाने के इच्छुक छात्रों को शोध, इंटर्नशिप, क्षमता निर्माण कार्यक्रमों और कार्यशालाओं से संबंधित एकल राष्ट्रीय मंच प्रदान किया जाएगा| ताकि हर विद्यार्थी की प्रतिभा का विकास किया जा सके और उनके प्रदर्शन के लिए उचित मंच प्रदान किया जा सके| यह योजना तकनिकी का विस्तार तथा विज्ञान के क्षेत्र में नए-नए प्रयोगों तथा खोजों को बढ़ावा देंगी|

Accelerate Science Scheme Highlight

योजना का नामएक्सीलेरेट विज्ञान योजना
योजना का प्रकारकेंद्र सरकार की योजना
विभागविज्ञान और प्रौद्योगिकी विभाग
उद्देश्यतकनिकी व विज्ञान के क्षेत्र में प्रगति
लाभार्थीउच्च अध्यनरत विद्यार्थी व अनुसंधानकर्ता
अधिकारिक वेबसाइट acceleratevigyan.gov.in

एक्सीलेरेट विज्ञान योजना का उद्देश्य

  • योजना का मुख्य उद्देश्य वैज्ञानिक अनुसंधान को प्रोत्साहित करना है |
  • यह योजना वैज्ञानिक श्रमशक्ति को बढ़ावा देती है जिससे कि क्रियात्मक अनुसंधानव गतिविधि आधारित क्रियाओं को बढ़ावा दिया जा सके|
  • राष्ट्रीय स्तर पर अनुसंधान क्षमता, सलाह, प्रशिक्षण और कार्यशालाओं की पहचान करने वाले तंत्र को आरंभ करना तथा मज़बूती प्रदान करना।
  • विद्यार्थियों को उनके कौशल को निखारने के अवसर प्रदान किये जायेंगे|
  • विज्ञान व तकनिकी के क्षेत्र में नए- नए प्रयोग तथा विकास के अवसर उपलब्ध करवाना|
  • योजना का मूल दृष्टिकोण अनुसंधान के आधार को विस्तृत करना है|

योजना के मुख्य लक्ष्य

  • विज्ञान व तकनीकी के क्षेत्र में कार्यक्रमों का समेकन करना |
  • उच्च स्तरीय(हाई-एंड) अनुसंधान कार्यशालाओं की शुरुआत करना |
  • जिन लोगों की अनुसंधान कार्यशालाओं तक पहुँच न हो उनके लिये अनुसंधान इंटर्नशिप के अवसर पैदा करना|
  • उच्च अध्ययन के लिए विद्यार्थियों के सहयोग रूप में प्रतिभाओं के निखारने के अवसर देना| 

एक्सीलेरेट विज्ञान योजना के मुख्य घटक:

Accelerate Vigyan Yojana के दो प्रमुख घटक है| जो कि इस प्रकार से हैं-

1. अभ्यास (ABHYAAS)

  • अभ्यास (ABHYAAS) एक्सीलेरेट विज्ञान योजना का एक मुख्य घटक है| इस घटक का मुख्य लक्ष्य स्नातकोत्तर (Post-Graduate) एवं पीएचडी के छात्रों को उनके संबंधित विषयों में कौशल विकास को प्रोत्साहित करना है|
  • इस कार्यक्रम के दो उप-घटक ‘कार्यशाला’ (KARYASHALA) और ‘वृत्तिका’ (VRITIKA) में विभाजित किया गया है-
  • ‘कार्यशाला’ (KARYASHALA)
    • यह एक हाई-एंड वर्कशॉप के रूप में कार्य करेगी। 
  • ‘वृत्तिका’ (VRITIKA)
    • यह रिसर्च इंटर्नशिप कार्यक्रम है। 
    • हाल ही में ‘कार्यशाला’ तथा ‘वृत्तिका’ घटकों के तहत शीतकालीन सत्र (दिसंबर 2020 से जनवरी 2021) के लिये आवेदन आमंत्रित किये गए थे।
    • इस सत्र के लिए 1 मार्च 2021 से 30 अप्रैल 2021 तक आवेदन मांगे गए हैं|

2. सम्मोहन (SAMMOHAN)

  • ‘सम्मोहन’ घटक कार्यक्रम को भी दो उप-घटक संयोजिका (SAONJIKA) और संगोष्ठी (SANGOSHTI) में विभाजित किया गया है| जो कि इस प्रकार हैं-
  • संयोजिका (SAONJIKA)
    • इसका उद्देश्य विज्ञान एवं प्रौद्योगिकी में क्षमता निर्माण गतिविधियों को सूचीबद्ध करना है।
  • संगोष्ठी (SANGOSHTI)
    • यह SERB का पूर्व में संचालित किया जा रहा कार्यक्रम है।

एक्सीलेरेट विज्ञान योजना कार्यान्वयन

  • एक्सीलेरेट विज्ञान योजना को मिशन मोड के तहत कार्यान्वित किया जाएगा।
  • मिशन मोड परियोजनाओं को एक तय समय सीमा में पूरा करना होता है तथा प्राप्त किये गए लक्ष्यों के परिणामों के मापन के स्पष्ट मानक होते हैं| जिनके आधार पर योजना को रन करवाया जाता है|
  • विभिन्न मंत्रालयों/विभागों तथा कुछ अन्य सदस्यों को मिलाकर एक ‘अंतर मंत्रालयी निरीक्षण समिति’ (Inter-Ministerial Overseeing Committee- IMOC) का गठन किया गया है। 
  • IMOC योजना को कार्यान्वित करने में SERB की सहायता और समर्थन प्रदान करेगा।

योजना का महत्व

  • योजना के अंतर्गत विभिन्न विषयों पर केंद्रित उच्च स्तरीय कार्यशालाओं का आयोजन किया जाएगा|
  • इस योजना के तहत आगामी पाँच वर्षों में करीब 25 हज़ार स्नातकोत्तर एवं पीएचडी छात्रों को आगे बढ़ने के अवसर मिल सकते हैं।
  • युवा प्रतिभाओं को अपने कौशल के विकास तथा प्रदर्शन के अवसर दिए जायेंगे|
  • देश के प्रमुख वैज्ञानिक संस्थानों एवं प्रयोगशालाओं को एक साथ मिलकर कार्य करने का अवसर प्रदान करती है।
  • भारत में शैक्षणिक प्रयोगशालाएँ बहुत खराब स्थिति में है अतः योजना के तहत सुरक्षित वैज्ञानिक प्रयोगशालाओं के निर्माण पर विशेष ध्यान दिया जाएगा |
  • एक्सीलेरेट विज्ञान योजना देश में क्षमता निर्माण की दृष्टि से सभी हितधारकों के लिये महत्त्वपूर्ण शाबित हो सकती है|

Contact Us

  • Address: 5 & 5A, Lower Ground Floor Vasant Square Mall Sector-B,
    Pocket-5 Vasant Kunj
    New Delhi – 110 070
  • For General EnquiriesPhone: +91-11-40000380
  • Email: accelerate.vigyaan@serb.gov.in

Leave a Comment